इंदिरा गांधी: ने पाकिस्तान के दो टुकड़े किए,ओर मोदी जी ने अपने ही “कश्मीर” के दो टुकड़े कर दिये।

इंदिरा गांधी: ने पाकिस्तान के दो टुकड़े किए,ओर मोदी जी ने अपने ही “कश्मीर” के दो टुकड़े कर दिये।

loading...

इतिहास दोहराता है। किसी ने सच कहा था. आज मोदी सरकार कई ऐसे फैसलों को लेकर साबित कर दिया हैं। वर्षों पहले भारत की सरकार ने पाकिस्तान के दो टूकड़े किया था. जिसके बाद बंग्लादेश बनाया गया। उस वक्त इंदिरा गांधी की सरकार थी।

जिसके नेतृत्व ने भारत ही नहीं पूरे दुनिया में भारत का लोहा मनवाया था. आज भी भारत पूरे देश में अपना लोहा मनवाते आयी है चाहें वो किसी भी क्षेत्र में क्यों ना हो।

आजादी को बाद से भारत और पाकिस्तान में चार बार युद्ध हो चुके है जिसमें सबसे प्रमुख युद्ध माना जाता है इंदिरा काल में पाकिस्तान के दो टूकड़े. कहा जाता है इंदिरा गांधी इरादों के पक्के लीडर थी जो करने की ठान लेती वो पुरा करके मानती थी।

1971 में जब पाकिस्तान और भारत में युद्ध हुआ तो लगातार चौदह दिन की लड़ाई के बाद भारत ने पाकिस्तान पर जीत हासिल कर पाकिस्तान को दो टुकड़े कर दिया गया जिसके बाद बंग्लादेश बनाया गया.

आजादी के बाद जम्मू-कश्मीर में धारा 370 और 35-A लगाया गया था जिसका विरोध हमेशा से भारतीय जनसंघ करते आया है जो आज राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ ऐर भारतीय जनता पार्टी का रूप लिया.

loading...

आजादी के इतने सालों बाद जब केन्द्र मे भाजपा की बहुमत से दोबारा सरकार बनी तो व़क्त आ गया उस पल का जब कश्मीर से यह कानून हटाने का.

लेकिन किसी को यह पता नही था कि जम्मू कश्मीर को एक और राज्य बना दिया जाऐगा. आज सुबह तक किसी को मालूम नही होगा लद्दाख भी एक केन्द्र शासित प्रदेश बनेगा.

लोकसभा सदन मे आज गृहमंत्री अमित शाह ने संबोधन करते हुए कहा, धारा 370 को हम हटाने जा रहें है साथ ही जम्मू कश्मीर को दो भागों में बाँट कर एक और केन्द्र शासित प्रदेश लद्दाख बनाया जाएगा.

अमित शाह के इस फैसले के बाद से ही भारत में एक कानून एक राज्य एक संविधान जम्मू कश्मीर में लागू हो गया. इस फैसले के बाद अब भारत के किसी भी राज्य के लोग जम्मू कश्मीर में जमीन खरीद सकते है घर बना सकते है रह सकते है।

आज का दिन हमेशा इतिहास में याद रखा जाएगा.वही इस फैसले पर विपक्ष के कई दलों ने विरोध किया.महबूबा मुफ्ती ने कहा आज लोकतंत्र के लिए काला दिन है।

वहीं जदयू ने कहा हम इसका समर्थन नहीं करते है। बसपा ने इसका समर्थन किया है. इस फैसले के बाद शोशल मिडिया पर ट्रैंड करने लगा कई विरोध में ट्वीट किए तो कई समर्थन में कर रहें है।

loading...

Leave a Comment

%d bloggers like this: